भाकियू (तोमर) ने जनसमस्याओं को लेकर एक ज्ञापन माननीय मुख्यमंत्री/राष्ट्रपति के नाम डीएम को सौंपा

0
130

आपको बता दें कि इमरजेंसी वार्ड में हमारे जिले के जिला अस्पताल में ऑक्सीजन उपलब्ध है जिसका लाभ जिला अस्पताल का स्टाफ आमजन मरीजों को नहीं दे रहा है ऑक्सीजन के नाम पर मरीजों को परेशान किया जा रहा है। जिला अस्पताल में डॉक्टरों के पहनने के लिए कोरोना किट उपलब्ध नहीं है। जिला अस्पताल में डॉक्टर पंकज और डॉक्टर तिरखा मरीजों के साथ दुर्व्यवहार कर रहे है। मरीजों का सही इलाज न करके प्राइवेट अस्पतालों में मरीजों को रेफर कर रहे हैं क्योंकि इन दोनों डॉक्टरों के अपने-अपने प्राइवेट अस्पताल है जहां यह मन चाहे पैसे मरीजों से ले रहे हैं कोरोना के कारण मरने वाले मरीजों को जो आर्थिक रूप से कमजोर है उनके परिवार को आर्थिक सहायता के रूप में 10 लाख रुपए दिए जाए और जिन व्यक्तियों की कोरोना से मृत्यु हो चुकी है उनको 25 25 लाख का मुआवजा भारत सरकार की ओर से दिया जाए।। संपूर्ण भारत वर्ष में कोरोना के मरीजों का इलाज निशुल्क किया जाए।। और जनपद में केवल कोरोना के मरीजों को ही भर्ती किया जा रहा है और जो दूसरी बीमारी से पीड़ित मरीज है उन्हें भर्ती नहीं किया जा रहा है जिसके चलते वह मरीज बीमारी के चलते आखिरकार दम तोड़ देते हैं। और अभी जो 5G नेटवर्क चालू किए गए हैं उससे मनुष्य और हर जीव को जान का खतरा बना हुआ है जिसकी जो किरण है भारी नुकसान मनुष्य में जीव को दे रही है इस पर भी तुरंत रोक लगाई जाए पूरा उत्तर प्रदेश के सभी जनपदों में सरकारी अस्पतालों में इमरजेंसी वार्ड में 24 घंटे ऑक्सीजन उपलब्ध कराई जाए।

ईस मौके पर मुख्य रूप से राष्ट्रीय उपाध्यक्ष राममेहर तोमर फौजी आशु चौधरी खालिद निखिल चौधरी सुमित चौधरी आदि मौजूद रहै।।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here