एआईसीटीई ने साइबर सुरक्षा के क्षेत्र में 5 लाख छात्रों और संकायों को प्रशिक्षित करने के लिए साइबरस्पेस के साथ और कोरोनासेफ इंटर्नशिप कार्यक्रम के लिए प्यूपलफर्स्ट के साथ समझौता किया : प्रो. अनिल डी. सहस्रबुद्धे

0
159

एआईसीटीई ने राष्ट्र निर्माण प्रक्रिया में छात्रों को सकारात्मक ऊर्जा का उपयोग करने में मदद करने के लिए दो कार्यक्रमों की शुरुआत की घोषणा की

नई दिल्ली: राष्ट्रीय युवा दिवस के रूप में मनाई जाने वाली स्वामी विवेकानंद की जयंती के अवसर पर एआईसीटीई ने छात्रों को राष्ट्र निर्माण प्रक्रिया में सकारात्मक ऊर्जा का उपयोग करने में मदद करने के लिए दो कार्यक्रमों की शुरुआत की घोषणा की।

एआईसीटीई के छात्र विकास प्रकोष्ठ के निदेशक डॉ. अमित कुमार श्रीवास्तव ने स्वागत भाषण के साथ कार्यक्रम की शुरुआत की। इसके बाद, एनईएटी सेल के मुख्य समन्वयक अधिकारी डॉ. बुद्ध चंद्रशेखर ने साइबर सुरक्षा प्रशिक्षण के बारे में विवरण साझा किया और फिर माइक्रोसॉफ्ट द्वारा वर्चुअल लैब का प्रदर्शन किया गया। 5 लाख छात्रों और शिक्षकों को शिक्षित करने के लिए बनाया गया साइबर सुरक्षा प्रशिक्षण कार्यक्रम का अनावरण एआईसीटीई के माननीय अध्यक्ष प्रो अनिल डी. सहस्रबुद्धे ने किया।

इस अवसर पर, एआईसीटीई माननीय उपाध्यक्ष प्रो एमपी पूनिया ने युवाओं के समक्ष मौजूद विशाल संभावनाओं और देश में नवाचारों को लाने में उनकी सक्रिय भूमिका पर जोर दिया।

प्रोफेसर पूनिया ने कहा, “उनकी जयंती पर, मैं स्वामी विवेकानंद के प्रसिद्ध उद्धरण का उल्लेख करना चाहता हूं, और छात्रों से आग्रह करना चाहता हूं, ” उठो, जागो और तब तक न रुको जब तक लक्ष्य पूरा न हो जाए।”

एआईसीटीई के माननीय सदस्य सचिव प्रो राजीव कुमार ने छात्रों के समग्र विकास और समाज के समग्र विकास के लिए युवाओं के शैक्षिक सशक्तिकरण का समर्थन करने के लिए एआईसीटीई की कई योजनाओं और पहलों के बारे में जानकारी दी।

एआईसीटीई-प्यूपलफर्स्ट कोरोनासेफ इंजीनियरिंग फेलोशिप (इंटर्नशिप) कार्यक्रम के परिणाम भी एआईसीटीई के माननीय अध्यक्ष प्रो अनिल डी. सहस्रबुद्धे द्वारा घोषित किए गए।

प्यूपलफर्स्ट के श्री संजय विजयकुमार ने एआईसीटीई-प्यूपलफर्स्ट कोरोनासेफ इंजीनियरिंग फेलोशिप (इंटर्नशिप) प्रोग्राम के तहत चयनित छात्रों के लिए एक्शन पॉइंट साझा किए।

श्री विजयकुमार ने कहा, “यह तीन चरणों की साक्षात्कार प्रक्रिया थी जिसे भारत के सबसे प्रतिभाशाली सॉफ्टवेयर इंजीनियरिंग छात्रों को चुनने के लिए डिज़ाइन किया गया था। पहले चरण में इंटर्नशिप कार्यक्रम के लिए 24 उम्मीदवारों का चयन किया गया।”

प्रो. सहस्रबुद्धे ने कहा, “साइबरपीस और प्यूपलफर्स्ट ने इन दोनों कार्यक्रमों को शुरू करने के लिए एआईसीटीई के साथ समझौता किया है जो देश के युवाओं को सशक्त बनाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाएंगे। हमें स्वामी विवेकानंद जी की जयंती पर इन दो कार्यक्रमों को शुरू करने की खुशी है, जिसे राष्ट्रीय युवा दिवस के रूप में मनाया जाता है।”

प्रो. सहस्रबुद्धे ने आगे कहा, “एआईसीटीई हमेशा राष्ट्र निर्माण प्रक्रिया में युवाओं की सकारात्मक ऊर्जा का उपयोग करने की दिशा में काम करता है। आज एआईसीटीई द्वारा शुरू किए गए ये दो कार्यक्रम देश के युवाओं को सशक्त बनाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाएंगे। संकाय सदस्यों को कक्षाओं को और अधिक रोचक बनाना होगा जिससे छात्रों की रचनात्मक शक्ति और सोच को जगाया जा सके।”

पूरे भारत में एआईसीटीई द्वारा अनुमोदित संस्थानों के संकाय और छात्रों के साथ बातचीत के दौरान, माइक्रोसॉफ्ट के श्री औरुण पांडे ने माइक्रोसॉफ्ट वर्चुअल लैब प्लेटफ़ॉर्म की विभिन्न विशेषताओं का प्रदर्शन किया।

कार्यक्रम के समापन में एआईसीटीई के छात्र विकास प्रकोष्ठ की सहायक निदेशक श्रीमती संजू चौधरी ने धन्यवाद ज्ञापन किया।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here